भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग़ज़ल सरा हूँ तेरी खातिर कुछ तो लगाव हो / अबू आरिफ़

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:30, 27 जुलाई 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अबू आरिफ़ }} {{KKCatGhazal}} <poem> ग़ज़ल सरा हूँ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग़ज़ल सरा हूँ तेरी खातिर कुछ तो लगाव हो
हमसे जुदा हो कैसी बीती सारा हाल सुनाव हो

ये अहले खिरद हैं दीवाने पे मश्क-ए-सितम है
तुम बज़्म-ए-वफा के एक दिया तुम उनको राह दिखाव है

चुपके-चुपके होले-होले कौन दिये ये दस्तक हो
खोलो दिल के बन्द दरीचे उसमें उन्हें समाव हो

करते-करते बेदर्दी तुम दर्द के मारे बन बैठे
निकले आँसू मेरे लिए क्या बात हुई बतलाव हो

मस्त-मस्त आँखों को देखूँ तब मैं कोई शेर कहूँ।
आरिफ अपनी ग़ज़ल सुनाये तुम भी गीत सुनाव हो