भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग़ैब होगा सुराग़ भी होगा / रवि सिन्हा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:52, 13 जनवरी 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रवि सिन्हा |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGha...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग़ैब[1] होगा सुराग़ भी होगा
दिल भी होगा दिमाग़ भी होगा

हुक्मे-आसेब[2] के अँधेरे में
कोई ज़िद्दी चिराग़ भी होगा

देखना जीतकर वो आये हैं
उनके दामन पे दाग़ भी होगा

जल गया दिल कुरेद कर देखो
तिश्नगी[3] है फ़राग़[4] भी होगा

ख़ुल्दे[5]-ग़ालिब तो ख़ल्क़े[6]-फ़ैज़ो-फ़िराक़
मीर ख़ुसरो का बाग़ भी होगा

क़त्ल के बाद आँख तर होगी
हाथ ख़ाली अयाग़[7] भी होगा

ज़ौक़[8] अपना सँभाल कर रखिये
संग बुलबुल के ज़ाग़[9] भी होगा

शब्दार्थ
  1. रहस्य, आस्मान (mystery, cosmos)
  2. प्रेत या शैतान का आदेश (order of the demon)
  3. प्यास, अभिलाषा (thirst, desire)
  4. संतोष (freedom from care and worries)
  5. स्वर्ग (paradise)
  6. लोग, सृष्टि (people, creation)
  7. प्याला, चषक (wine glass)
  8. रसास्वाद, मज़ा (taste)
  9. कौआ (crow)