भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाँधी-जवाहर / नाथ कवि

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:13, 18 जनवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नाथ कवि |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBrajBhashaRa...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रावण नीति तजी जबही,
प्रगटे रघुबीर भक्त भय हारी।
कंस ने नीति तजी जबही,
मथुरा प्रगटे प्रभु कृष्ण मुरारी॥
दुर्योध्न जब नीति तजी,
भयौ अरजुन वीर बड़ौ धनु-धारी।
अब अंगरेजन नीति जी,
भये गाँधी जवाहर दोऊ अवतारी॥