भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाँव बहुत बेचैन / त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:51, 7 अप्रैल 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=त्रिलोक सिंह ठकुरेला |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आशाएं धूमिल हुईं, सपने हुए उदास
सब के द्वारे बंद हैं, जाएँ किसके पास

मंहगाई के दौर में, सरल नहीं है राह
जीवन नैया डोलती, दुःख की नदी अथाह

मौन खड़े हैं आजकल, मीरा, सूर, कबीर
लोगों को सुख दे रही, आज पराई पीर

कैसे झेले आदमी, मंहगाई की मार
सूख रहे है द्वार पर, सपने हरसिगार

छूएगी किस शिखर को, मंहगाई इस साल
खाई में जनता गिरी, रोटी मिले न दाल

जीवन यापन के लिए, कोशिश हुईं तमाम
पेट, हाथ खाली रहे, मिला बन कोई काम

खाली, खाली मन मिला, सूने सूने नैन
दुविधाएं मेहमान थीं, गाँव बहुत बेचैन