भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत तेरे हुस्न के गाता हूँ मैं / ज़िया फतेहाबादी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:28, 27 मार्च 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ज़िया फतेहाबादी |संग्रह= }} {{KKCatGhazal‎}}‎ <poem> गीत तेरे …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गीत तेरे हुस्न के गाता हूँ मैं ।
चाँद की किरणों को तड़पाता हूँ मैं ।

मंज़िल ए मक़सूद होती है क़रीब,
रास्ते में जब भटक जाता हूँ मैं ।

दे रहा हूँ रात-दिन ग़म को फ़रेब,
दिल को उम्मीदों से बहलाता हूँ मैं ।

मेरे इस्तक़बाल को साक़ी उठे,
मयकदे में झूम कर आता हूँ मैं ।

उसके दिल में भी है दाग़-ए सोज़-ए इश्क़,
चाँद को हमदास्ताँ पाता हूँ मैं ।

छेड़ती है सुबह जब साज़-ए हयात
वज्द में आकर ग़ज़ल गाता हूँ मैं ।

ख़ुद तड़पता हूँ तड़प कर ऐ ’ज़िया’,
अहल-ए महफ़िल को भी तड़पाता हूँ मैं ।