Last modified on 27 नवम्बर 2016, at 16:26

गीत / बालकृष्ण काबरा 'एतेश' / लैंग्स्टन ह्यूज़

जो भी गीत तुम जानते हो
उन्हें अन्धेरे से निकाल
तुरन्त एकत्र करो

और
इससे पहले कि
वे पिघल जाएँ
बर्फ़ की तरह

उन्हें
फेंक दो
सूर्य पर।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’