भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत / लैंग्स्टन ह्यूज़ / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:40, 26 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=लैंग्स्टन ह्यूज़ |अनुवादक=उज्ज्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अन्धेरे में बैठा हुआ
मैं उसे गीत सुना रहा था ।

वह बोली —
‘ये लफ़्ज़
मुझे समझ में नहीं आते ।’

मैंने कहा —
‘इनमें
लफ़्ज़ नहीं है ।’

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य