भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत 6 / पहिलोॅ अध्याय / अंगिका गीत गीता / विजेता मुद्‍गलपुरी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:58, 14 जून 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विजेता मुद्‍गलपुरी |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अर्जुन उवाच-

केशव! अब हम युद्ध लड़ब नै
अपनोॅ परिजन के अपने से हम संहार करब नै।

नै हमरा चाही जय या जस, नै सत्ता, नै सेना
नै हमरा सुख भोग झुठौका, कुछ केकरो से लेना
अपने परिजन के विरुद्ध केशव! गाण्डीव धरब नै
केशव! अब हम युऋ लड़ब नै।

जिनका लेली लोग राज वैभव के चाह करै छै
गुरु चाचा बेटा दमाद लै लोग उछाह करै छै
ससुर सार मामा अरु पोता सब के प्राण हरब नै
केशव! अब हम युद्ध करब नै।

केवल धरती के नै, तीनों लोकोॅ के सुख त्यागब
हम निज कुल के नाश करी, नै चैन से सूतब-जागब
वंशघात के दोष कृष्ण, हम अपनौ माथ धरब नै
केशव! अब हम युद्ध करब नै।