भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गुजराती लोकगीत" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
छो (Sharda monga (Talk) के संपादनोंको हटाकर सम्यक के आखिरी अवतरण को पूर्ववत कि)
 
(4 सदस्यों द्वारा किये गये बीच के 13 अवतरण नहीं दर्शाए गए)
पंक्ति 10: पंक्ति 10:
 
* [[ चपटी भरी चोखा  / गुजराती लोक गरबा]]
 
* [[ चपटी भरी चोखा  / गुजराती लोक गरबा]]
 
* [[ साथिया पुरावो /  गुजराती लोक गरबा]]
 
* [[ साथिया पुरावो /  गुजराती लोक गरबा]]
* [[ वा वाया ने वादळ उमट्या / गुजरती लोक गरबा]]
 
 
* [[ मुने एकली जानी ने / गुजराती लोक गरबा ]]
 
* [[ मुने एकली जानी ने / गुजराती लोक गरबा ]]
 
* [[ माथे मटुक्डी महिनी गोरी / गुजराती लोक गरबा ]]
 
* [[ माथे मटुक्डी महिनी गोरी / गुजराती लोक गरबा ]]
* [[ सोना वाटकडी रे केसर घोल्या / गुजराती लोक गरबा ]]
 
 
* [[ अमे महियारा रे गोकुल गाम ना / गुजराती लोक गरबा ]]
 
* [[ अमे महियारा रे गोकुल गाम ना / गुजराती लोक गरबा ]]
* [[ झूलन मोरली वागी रे राजा ना कुंवर / गुजराती लोक गरबा ]]
+
* [[वान्ना वगडा न वायरा वायरे, /  गुजराती]]
 +
* [[लीली लेमड़ी रे, लीलो नागरवल नो छोड़ /गुजराती]]

03:54, 11 सितम्बर 2016 के समय का अवतरण