भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गुजराती लोकगीत" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKLokGeetBhaashaSoochi}}
 
{{KKLokGeetBhaashaSoochi}}
*वान्ना वगडा न वायरा वायरे,
 
कन्ने घूमरियो  घुम तो गायरे,
 
 
रासे रमे, रासे रमे,
 
गोप गोपियों नी संग,
 
जामयो वृन्दावन ने मार गड़े  रंग,
 
वान्ना वगडा न वायरा वायरे,
 
कन्ने घुमरिया घूम तो गायरे.
 
 
घेरी घेरी, घेरी घेरी,
 
एनी वागे मुरलियो,
 
गौरी गौरी राधा ने,
 
सुंदर श्यामडियो,
 
वान्ना वगडा न वायरा वायरे,
 
कन्ने घुमरिया घूम तो गायरे.
 
  
 
  [[पंखिडा रे उड़ी जाजे पावागढ़ रे / गुजराती लोक गरबा  ]]
 
  [[पंखिडा रे उड़ी जाजे पावागढ़ रे / गुजराती लोक गरबा  ]]
पंक्ति 33: पंक्ति 18:
 
* [[ झूलन मोरली वागी रे राजा ना कुंवर /
 
* [[ झूलन मोरली वागी रे राजा ना कुंवर /
  
  गुजराती लोक गरबा ]]
+
  {{KKGlobal}}
 +
{{KKLokRachna
 +
|रचनाकार=अज्ञात
 +
}}
 +
{{KKLokGeetBhaashaSoochi
 +
|भाषा=gujrati
 +
}}
 +
गुजराती लोक गरबा ]]

14:08, 16 फ़रवरी 2010 का अवतरण

पंखिडा रे उड़ी जाजे पावागढ़ रे / गुजराती लोक गरबा  

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गुजराती लोक गरबा ]]