भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गुमराह कह के पहले जो मुझ से खफ़ा हुए / 'हफ़ीज़' बनारसी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='हफ़ीज़' बनारसी |अनुवादक= |संग्रह= }}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

23:56, 29 नवम्बर 2019 के समय का अवतरण

गुमराह कह के पहले जो मुझ से खफ़ा हुए
आखिर वह मेरे नक़शे-क़दम पर फ़िदा हुए
 
अब तक तो ज़िन्दगी से तआरुफ़ न था कोई
तुम से मिले तो ज़ीस्त से भी आशना हुए

मेरी नज़र ने तुमको जमाल आशना किया
मुझ को दुआएँ दो कि तुम इक आइना हुए

सुनता हूँ इक मुक़ामे-ज़ियारत है आजकल
वह ज़िन्दगी का मोड़ जहाँ हम जुदा हुए

क्या होगा इस से बढ़ के कोई रब्ते-बाह्मी
मंज़िल हमारी वह तो ह्म उनका पता हुए

कब ज़िन्दगी ने हमको नवाज़ा नहीं 'हफ़ीज़'
कब हम पर बाबे-लुत्फ़-ओ-इनायत न वा हुए