भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुरु गोरख बाट देखते होंगे सुन्दरादे डेरे में / मेहर सिंह

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:55, 15 फ़रवरी 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मेहर सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatHaryan...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुरनमल:- गुरु गोरख बाट देखते होंगे सुन्दरादे डेरे में,
सुन्दरादे:- हो बाबा जी तनै जाने दूंना मन फंसग्या तेरे में।
पु.:- इसी बात बाबा के संग में होणी ना चाहिए,
सु.:- चन्द्रमा सी शान नै व्यर्था खोणी ना चाहिए,
पु.:- अगत जगत में मिलै भलाई इसी रोजी टोहनी चाहिए,
सु.:- ऋत पै केशर क्यारी सै या तनै मेवा बोणी चाहिए,
पु.:- बोवैगा जो काटैगा या श्रद्धा ना मेरे मैं,
सु.:- बाबाजी आग लगै, जब आग लगै चेहरे मैं।1।

पु.:- गुरु गोरख फिकर करेंगे मन में पूरन क्यूं ना आया,
सु.:- आज तलक इसी शक्ल ना देखी हे ईश्वर तेरी माया,
पु.:- पांच भूत पच्चीस भूतनी भिन्न-भिन्न में दर्शाया,
सु.:- ज्ञान की भूखी ना बाबा जी करदे मन का चाया,
पु.:- मैं जाण गया तूं बाबा जी नै देना चाहवै घेरे में,
सु.:- तूं बनड़ा आला ढंग बणा ले जिब लूंगी फेरे में।2।

पु.:- आज गुरु नै ज्यान मेरी कीत फंसा दई रासे में,
सु.:- साधुआं के सिर काट्या करूं तू के लेगा तमाशे में,
पु.:- तेरे केसे जीव जन्तु सौ होकै मरै चमाशे में,
सु.:- या चोपड़ सार बिछा राखी सै खेलूंगी पाशे में,
पु.:- गुरु गोरख तै शरीर सौंप दिया मनै मिलगे थे झेरे में,
सु.:- तेरी गोरख गैल बराती हौं जिब झलक लगै सेहरे में।3।

पु.:- सिद्ध साधा के सिर पै बादली तूं कड़ै गरजती आवै सै,
सु.:- बंश की खातिर दुखिया आगी थारे कोण गृहस्थी आवै सै,
पु.:- धरती ना है बुंद पड़न की तू कड़ै बरसती आवे सै,
सु.:- जिन्दगी भर तेरी टहल करै न्यूं हूर लरजती आवै सै,
पु.:- कहै मेहर सिंह रस ना लिकड़ै सूके हुए पटेरे में,
सु.:- कह लख्मी चन्द राजी हो ज्या जब लिकड़ै चाल बछेरे में।4।