भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुलाम / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:13, 6 दिसम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मुइसेर येनिया |अनुवादक=मणि मोहन |...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

युद्ध के बाद
बाँध दिया गया था मुझे
ज़ंजीरों से
जैसे गूँथी जाती है चोटी

मैं एक घोड़े पर सवार होकर
उत्तर से आई थी
उपहार बनकर

गुलामों की मण्डी में
मेरे सिले हुए होंठ
कभी नहीं खुले

एक व्यापारी की आवाज़ के साथ
बिखर गई मेरी देह
अजनबियों के हाथों में

मैं इन्तज़ार करती रही
कि मेरा मालिक
मेरी ज़ंजीरें खोले
किसी उजाड़ स्वप्न में

उसकी नज़रें झुकीं
नीचे
ताकि ठीक से देख सके मुझे
पर्दे में ।