भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गेसुओं की बरहमी अच्छी लगे / 'हफ़ीज़' बनारसी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='हफ़ीज़' बनारसी |अनुवादक= |संग्रह= }}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

23:54, 29 नवम्बर 2019 के समय का अवतरण

गेसुओं की बरहमी अच्छी लगे
ये हसीं आवारगी अच्छी लगे

उसके होंटों की हंसी अच्छी लगे
अध खिली-सी वह कली अच्छी लगे

प्यास के तपते हुए सहराओं में
ओस की इक बूँद भी अच्छी लगे

हमनशीं है जब से वह जान-ए-ग़ज़ल
दिन भी अच्छा रात भी अच्छी लगे

खूब है हरचंद राहे-रास्ती
गाहे गाहे कजरवी अच्छी लगे

लोग तो रंगीनियों पर हैं फ़िदा
मुझको तेरी सादगी अच्छी लगे

धूप जाड़े की मज़ा दे जाए है
चाँदनी बरसात की अच्छी लगे

उड़ गए सब रंग उस तस्वीर के
फिर भी आँखों को वही अच्छी लगे

ग़ैर के महलों में जी लगता नहीं
अपनी टूटी झोंपड़ी अच्छी लगे

मुद्दतों गंभीर रह लेने के बाद
कुछ हंसी कुछ दिल लगी अच्छी लगे

उसका प्यार, उसकी वफ़ा, उसके सितम
हर अदा उस शोख़ की अच्छी लगे

 सू-ए-काबा किस लिए जाये 'हफ़ीज़'
 जिस को काशी की गली अच्छी लगे