भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गोरे-गोरे गालों पै जंजीर / ब्रजभाषा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

03:54, 27 नवम्बर 2015 के समय का अवतरण

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गोरे गालों पै जंजीरौ मति डारै लाँगुरिया॥ टेक
ससुर सुनें तो कुछ ना कहेंगे,
सास देख देगी तसिया॥ गोरे गालों पै.
जेठ सुनें तो कुछ न कहेंगे,
जिठनी देख देगी तसिया॥ गोरे गालों पै.
देवर देखे तो कुछ ना कहेंगे,
दौरानी देख देवै तसिया॥ गोरे गालों पै.
नन्दोई सुनें तो कुछ न कहेंगे,
ननद देख देगी तसिया॥ गोरे गालों पै.