भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग्रीष्म / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:34, 6 दिसम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मुइसेर येनिया |अनुवादक=मणि मोहन |...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ताप जो फूट रहा है धरती से
घुल-मिल गया है उस ताप से
जो हृदय से निकल रहा है

चलो, जरा तफ़री करते हैं तुम्हारे ज़ेहन में
चलते हैं
तुम्हारी आँखों में
जो बनी हैं मेरे लिए

शब्द .....
ऐसे बच्चे हैं

जो बातचीत नहीं कर सकते

तुम्हारी आँखें.....
दरख़्त हैं कटे हुए
जो गिर रहे हैं
मेरे ऊपर ।