भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग्वालिन करि दे मौल दही कौ / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:35, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ग्वालिन करि दै मोल दही कौ मोकूमाखान तनक चखाय॥ टेक

सुन गोरी बरसाने वारी,
नेंक चखाय दै माखन प्यारी
आज मान लै बात हमारी।
मटुकी के दरसन करबाय दे, क्यों राखी दुबकाय॥ 1॥

नाय तौ आज समझ ले मन में,
काऊ दिन हाथ परैगी बन में,
सबरी कसर निकरूँ छिन में,
लकुटी मार फोर दऊँ मटकी, लउँगो दान चुकाय॥ 2॥

साँच समझलै नाहै धोखौ,
जा दिन मेरौ लग जाय मोकौ,
दही तेरौ बिकवाय दउँ चोखौ।
चारी करें ाज तेरे घर में पहले दउँ जताय॥ 3॥

पनघट पै भरवे जाय पानी,
मोय तेरी गागरि लुढ़कानी,
यही हमारी रीति पुरानी।
अबहु समझि ‘श्याम’ समझावै, फिर पाछे पछताय॥ 4॥