Last modified on 16 नवम्बर 2014, at 20:40

घण्टों मुझसे बतियाता है रात गए / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

घण्टों मुझसे बतियाता है रात गए ।
मुझमें कोई जग जाता है रात गए ।

सूने बदन में रौनक-सी आ जाती है,
कौन रौशनी बरसाता है रात गए ।

जाने कितने हुनर साथ में लाता है,
हर उलझन को सुलझाता है रात गए ।

हवा-सा हल्का बदन मेरा हो जाता है,
रूह में कोई बस जाता है रात गए ।

पलकें जब चुप-चाप बन्द हो जाती हैं,
मुझको वही नज़र आता है रात गए ।

मेरे हर इक दर्द को ग़ज़ल बना देता,
फिर ज़ख़्मों को सहलाता है रात गए ।