भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चन्द्रमा आपको नहीं चाहता / आन येदरलुण्ड

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:01, 20 दिसम्बर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=आन येदरलुण्ड |अनुवादक=अनुपमा पाठ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या आप चन्द्रमा को देख पा रहे हैं
चन्द्र किरणें आपको देख रही हैं
एक बकसुआ चाँद को छिपा सकता है
शायद आपके पास वह अंडाकृति न हो
चन्द्र किरणें आपको देख रही हैं
क्या आप चन्द्रमा को देख पा रहे हैं
चन्द्र किरणों को तो बकसुए से अलग पहचाना ही जा सकता है
वो उजली किरण आप सी नहीं है
चन्द्रमा आपको नहीं चाहता.

मूल स्वीडिश से अनूदित