भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चलो मनियारपुर, बौंसी थाना मेँहीँ धाम / ब्रजेश दास

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:40, 21 अक्टूबर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ब्रजेश दास |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatAng...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

॥मनहर छन्द॥

चलो मनियारपुर, बौंसी थाना मेँहीँ धाम।
जहाँ में बिराजैं बाबा, शाही हो सजनवाँ॥
चारो ओर हरियाली, जंगल-पहाड़ दीखै।
तेहि बीच मेँहीँ धाम, सोभै हो सजनवाँ॥1॥
ध्यान-कक्ष बैठि करि, योग-ध्यान करैं लोगें।
नित दिन सतसंग, होवै हो सजनवाँ॥
मंच बैठि शाही बाबा, ज्ञान-उपदेश करैं।
सुनि-सुनि नर-नारी, रीझैं हो सजनवाँ॥2॥
अमरूद कटहल, आम आदि केरो गाछ।
मन मोहै लोगो केरो, नित हो सजनवाँ॥
सैनिटोरियम यह, मेँहीँ बाबा कहि गेलै।
गावत ‘ब्रजेश दास’, गुण हो सजनवाँ॥3॥