भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चलो हे बहिना सत्संगति में / रघुनन्दन 'राही'

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:59, 21 अक्टूबर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रघुनन्दन 'राही' |अनुवादक= |संग्रह= }}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चलो हे बहिना सत्संगति में, यही से निज कल्याण हे।
जे जे गेलै सतसंगति में, सब कोय भेलै महान हे॥
नारद ऋषि शृंगी अरु सदना, सुक सुकदेव जहान हे।
मानो हे बहिना गुरु-वचनियाँ, जम से पैभे त्राण हे॥
बालमीकि अगस्त अरु नाभा, राजपुतानि संतान हे।
भीलनी जाती शबरी माई, पूजै दुनिया जान हे॥
सत्संगति से सद्गुरु भेटै, देखो वेद पुरान हे।
जिनकी शरण में मुक्ति विराजै, ‘रघुनन्दन’ भव-यान हे॥