भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चल्यौ अइयौ रे श्याम मेरे पलकन पे / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:43, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

चल्यौ अइयौ रे श्याम मेरे पलकन पे चल्यौ अइयो रे॥ टेक
तू तो रीझौ मेरे नवल जीवना, तू तौ...
मैं रीझी तेरे तिलकन पै, तेरे तिलकन पै॥ चल्यौ.
तू तौ रीझौ मेरी लटक चाल पै, तू तौ...
मैं रीझी तेरी अलकन पै, तेरी अलकन पै॥ चल्यौ.
‘पुरुषोत्तम’ प्रभु की छबि निरखे, पुरुषोत्तम...
अबीर गुलाल की झलकन पै, अरी झलकन पै। चल्यौ.