भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

चल सखी ! चल धोए मनवा के मइली / लछिमी सखी

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:14, 24 अगस्त 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna | रचनाकार=लछिमी सखी}} {{KKCatPad}} {{KKCatBhojpuriRachna}} <poem> चल स...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 चल सखी ! चल धोए मनवा के मइली।
कथी के देहिया, कथी के घइली। कवने घाट पर सउनन भइली।।
चित्रकार रेहिया, सुरतकर घइली। त्रिकुट घाट पर सउनन भइली।।
ग्यान के सबद से काया धोअल गइली। सहजे कपड़ा सफेद हो गइली।।
कपड़ा पहिरि लछिमी सखी आनंद भइली। धोबी घरे भेज देहली नेवत कसइली।।