भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाँदनी के पहाड़ / दिनेश कुमार शुक्ल

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:10, 5 अप्रैल 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर तुम्हारे
क्षीर सागर में
उठा है ज्वार --

अतल से
उठते
चले आ रहे
देखो
चाँदनी के दो पहाड़

शिखर दोनों के
नहाये हैं
उषा की अरुणिमा में

यह शताब्दी
जग रही है
अब तुम्हारी देह में