भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाल-चलन छूछे हैं / एज़रा पाउंड / एम० एस० पटेल

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:44, 17 अप्रैल 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=एज़रा पाउंड |अनुवादक=एम० एस० पटेल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाल-चलन छूछे हैं
इस देश के चाल-चलन छूछे हैं
और फूल
उदासीन मन से झुकते हैं ।

इस देश के चाल-चलन छूछे हैं
जहाँ कभी
आईओन[1] चहलक़दमी करता था
अब चहलक़दमी नहीं करता
अभी-अभी गए व्यक्ति की तरह लगता है ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : एम० एस० पटेल

शब्दार्थ
  1. यूनानी सूर्य देवता अपोलो का पुत्र