भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चेतावनी / ताहा मुहम्मद अली

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:43, 24 अप्रैल 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ताहा मुहम्मद अली |संग्रह= }} <poem> आखेट पर निकलने का ...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आखेट पर निकलने का शौक रखने वालो
और शिकार पर झपट्टा मारने का श्री गणेश करने वालो-
अपनी रायफ़ल का
मुँह मत साधो मेरी ख़ुशी की ओर-
यह इतना मूल्यवान नहीं
कि जाया की जाए इस पर एक भी गोली-
(बरबादी है यह ख़ालिस बरबादी)
तुम्हें जो दिख रहा है
हिरन के बच्चे की तरह
फुर्तीला और मोहक
कुलाँचें भरता हुआ
या तीतर की तरह पंख फड़फड़ाता हुआ-
यह मत समझ लेना कि
बस, ख़ुशी यही है
मेरा यक़ीन मानो
मेरी ख़ुशी का
कुछ भी लेना-देना नहीं है।


अंग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र