भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"चोरी माखन की दै छोड़ि कन्हैया / ब्रजभाषा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाषा }} <poem> चोरी माखन…)
 
 
पंक्ति 6: पंक्ति 6:
 
|भाषा=ब्रजभाषा
 
|भाषा=ब्रजभाषा
 
}}
 
}}
 +
{{KKCatBrajBhashaRachna}}
 
<poem>
 
<poem>
 
चोरी माखन की दै छोड़ि  
 
चोरी माखन की दै छोड़ि  
कन्हैया मैं समझाऊँ तोय<br>
+
कन्हैया मैं समझाऊँ तोय
  
 
एक लख धेनु नंद बाबा कें
 
एक लख धेनु नंद बाबा कें

03:25, 27 नवम्बर 2015 के समय का अवतरण

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

चोरी माखन की दै छोड़ि
कन्हैया मैं समझाऊँ तोय

एक लख धेनु नंद बाबा कें
नित घर माखन होय
दधि माखन तू रोज चुरावै
हँसी हमारी होय
चोरी माखन की दै छोड़ि
कन्हैया मैं समझाऊँ तोय...