भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छत्तीसगढ़ भजन / शिवरतन शांतर

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:59, 15 अगस्त 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शिवरतन शांतर |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जान ले संगी पांच चक्कर वट पार है
जनम मरन के चकरम ला निहार ले
जान ले संगी....

पांच चक्र मां सुध खेल गंवाये
मोर मोर कहि तें नित गाये
उधारी के काया माया, आत्मा संग विचार ले
जान ले संगी.....

पहिली चक्र मा जी धन बल पाये
दूसर चक्र हा कामला जगाये
तिसरे मोह चौथे अहम हे, पांचवे लेत रस लार हे,
जान ले संगी...

अरपन करदे तन के गुन धरम ला
साध ले मितवा मानुस के करम ला
गुरु सिखावन नोहर हे जोनी
परमात्मा सत हे जोहार ले ।