भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छोटी-छोटी बकरी / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:53, 15 अप्रैल 2019 का अवतरण (' {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' }} {{KKCatLori}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


छोटी-छोटी बकरी
छोटी–छोटी गैया ।
गैया चराए मेरे
छोटे कन्हैया ।
छोटे-छोटे हाथ
छोटे-छोटे पाँव
ठुमक-ठुमक जाए
गोरी के गाँव ।
आँखों में दिखता
है आसमान ।
पतले –से होठों पे
छाई मुस्कान ।
किलक-किलक में
सारे गुणगान
तुतली-सी बोली में
छिपे भगवान ।