भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जग में सुंदर है दो नाम चाहे कृष्ण कहो या राम / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:23, 13 अक्टूबर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बिन्दु जी |अनुवादक= |संग्रह=मोहन म...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जग में सुंदर है दो नाम, चाहे कृष्ण कहो या राम।
एक हृदय में प्रेम बढ़ावे, एक पाप के ताप हटावै।
दोनों सुख के सागर हैं दोनों ही हैं पूरण काम।
चाहे कृष्ण कहो या राम।
माखन ब्रज में एक चुरावै, एक बेर सबरी घर खाबे।
प्रेम भाव से भरे अनोखे, दोनों के हैं काम॥
चाहे कृष्ण कहो या राम
एक कंस पापी सँहारे, एक दुष्ट रावण को मारे।
दोनों हैं अधीन दुखहर्ता दोनों बल के धाम॥
चाहे कृष्ण कहो या राम
एक राधिका के संग राजे, एक जानकी संग बिराजै।
चाहे राधे श्याम कहो या बोलो सीता राम॥
चाहे कृष्ण कहो या राम
दोनों हैं घट घट के वासी, दोनों हैं आनन्द प्रकाशी।
'बिन्दु' सदा गोविन्द भजन में मिलता है विश्राम॥
चाहे कृष्ण कहो या राम