भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जनप्रतिनिधियों के पास / देवी प्रसाद मिश्र

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:02, 1 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= देवी प्रसाद मिश्र |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सारे जनप्रतिनिधि सफ़ेद पहनते थे — लकदक कुर्ते। जनप्रतिनिधियों के पास बूचड़ खाने थे, बसें चलती थीं, ट्रक चलते थे, उनके
इंजीनियरिंग कॉलेज और मेडिकल कॉलेज थे।
उनके बेटे लास वेगस में जुआ खेलते थे और एमस्टरडम के वेश्यालयों में घूमते थे।
उनके पास सैकड़ों बीघे खेत थे और ट्रैक्टर और थ्रेशर और आलू के गोदाम और बीज भण्डार और तेल मिलें और चीनी मिलें और
मॉल उनकी रसोइयों में सात-आठ लोग मिलकर खाना बनाते थे।
जहाँ सात आठ चार तरह की तो चटनियाँ ही होती थीं।

कोयला खदानों दुकानों सिनेमा घरों और शेयरों की तरह जनप्रतिनिधियों के पास जन थे सचल और अचल परिसम्पत्ति की
तरह।