भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जनाज़ा रुका हुआ है / रफ़ीक सूरज

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:00, 4 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रफ़ीक सूरज |अनुवादक=भारतभूषण तिव...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे आए
जबरन उन्होंने मुझसे कुछ कविताएँ
छीन लीं
और उनकी मस्जिद बना दी

और वे भी आए
डर दिखाकर वे भी मेरी बची हुई कविताएँ
लूटकर ले गए
और उनका मन्दिर बना दिया

मेरी पूर्वानुमति की किसी को भी
ज़रूरत महसूस नहीं होती
धन्यवाद देना तो दूर ही रहा!

मेरी कविताओं को विवादग्रस्त घोषित कर दिया गया है
फिलहाल वे सशस्त्र पहरे में
मातम मना रही हैं
मुझे मेरी कविताओं से मिलने नहीं दिया जाता
दीदार तक करने की इजाज़त नहीं
मेरी भोली-भाली कविताएँ
आपके ऐसे बर्ताव से मेरी कविताएँ ढह जाएँगी, बेचारी...

मेरा जनाज़ा कब से रुका हुआ है
मेरे लिए तयशुदा क़ब्र के निशाँ के लिए
क्योंकि
बचा नहीं है
कविता का एक भी पत्थर....

मराठी से हिन्दी में अनुवाद : भारतभूषण तिवारी