भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"जब-जब मुश्किल आई मैं दिल को, दिल मुझको समझाता है / दरवेश भारती" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दरवेश भारती |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

14:54, 4 दिसम्बर 2019 के समय का अवतरण

जब-जब मुश्किल आई मैं दिल को, दिल मुझको समझाता है
इक-दूजे का ही तो सहारा वक़्त पर काम आ जाता है

राहे-वफ़ा में जाने-वफ़ा का साथ न जब मिल पाता है
' सात समन्दर पार का सपना, सपना ही रह जाता है

जिनके सहारे बीत रहा है यह संघर्ष-भरा जीवन
लम्हा-लम्हा उन यादों का तन-मन को महकाता है

कितनी अन्ध गुफाओं में हम चाहे क़ैद रहें, फिर भी
याद किसी की आते ही यह अँधियारा छँट जाता है

जीवन और मरण से लड़ने, बीच भँवर जो छोड़ गया
सोच के जाने क्या वह मेरी सिम्त खिंचा क्यों आता है

जितनी भी औक़ात जहाँ में होती है जिस इन्सां की
मालिक भी उसपर उतना ही रह्मो-करम बरसाता है

कोई जोगी हो वैरागी या हो संन्यासी 'दरवेश'
भूल स्वयं को जाता है जब मन्मथ रंग दिखाता है