Last modified on 1 दिसम्बर 2014, at 12:52

जब तबीयत में क़नाअत थी तो ख़ुद्दारी भी थी / ओम प्रकाश नदीम

जब तबीयत में क़नाअत[1] थी तो ख़ुद्दारी भी थी ।
दिल में थोड़ा सहन भी था चारदीवारी भी थी ।।

मुझको उसकी खुद्सिताई[2] से न था कोई गुरेज़,
उसको अपनी बात मनवाने की बीमारी भी थी ।

ख़ूब था वो शख्स पहले ज़ख्म देता था मुझे,
फिर छिड़कता था नमक यानी रवादारी भी थी ।

मसअला उलझा हुआ था दो रुखों के दरमियाँ,
गुफ़्तगू भी चल रही थी और तैयारी भी थी ।

वो तुम्हारे पास जा कर बैठना घंटों ’नदीम’
इन्किसारी[3] ही नहीं थी मेरी लाचारी भी थी ।

शब्दार्थ
  1. आत्मसन्तोष
  2. आत्मप्रशंसा
  3. विनम्रता