भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब बहार आई तो जंजीर-बपा रक्खा है / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
Abhishek Amber (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:39, 11 अगस्त 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मेला राम 'वफ़ा' |अनुवादक= |संग्रह=स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब बहार आई तो जंजीर-बपा रक्खा है
अक़रबा ने मुझे दीवाना बना रक्खा है

हम-सुख़न ग़ैर से रहना है क़रीने-अख़लाक़
मुझ से कम बोलने का नाम हया रक्खा है

रोज़ होती है हज़ारों ही घरों में शबे-ग़म
शमअ-रुयों ने मुझे अंधेर मचा रक्खा है

माया-ए-ज़ीस्त है बाक़ी दिले-यक-क़तरा-ए-खूं
सो वो आंखों से टपकने को बचा रक्खा है

दागे-हसरत कि है वीराना-ए-दिल में रौशन
मुर्दा उम्मीदों की तुर्बत पे दिया रक्खा है

बज़्म में दाद न देना है ख़िलाफ़े-आदाब
ऐ 'वफ़ा' वरना तिरे शेरों में क्या रक्खा है।