भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब भी मौसम-ए-हुनर हर्फ़ ओ बयाँ ले जाए / जलील आली

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:28, 6 सितम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=जलील आली }} {{KKCatGhazal}} <poem> जब भी मौसम-ए-हु...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब भी मौसम-ए-हुनर हर्फ़ ओ बयाँ ले जाए
यूँ लगे जिस्म से जैसे कोई जाँ ले जाए

हम कि हैं नक़्श सर-ए-रेग-ए-रवाँ क्या जाने
कब कोई मौज-ए-हवा अपना निशाँ ले जाए

एक आज़ादी के ज़िंदानी-ए-ख़्वाहिश कर दे
इक असीरी के कराँ-ता-ब-कराँ ले जाए

वहशत-ए-शौक़ मुक़द्दर थी सो बचता कब तक
अब तो ये सैल-ए-बला-ख़ेज़ जहाँ ले जाए

एक परछाईं के पीछे हैं अज़ल से ‘आली’
ये तआक़ुब हमें क्या जाने कहाँ ले जाए