भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जरमन नैं गोला मारिया / हरियाणवी

Kavita Kosh से
सम्यक (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:21, 13 जुलाई 2008 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जरमन नैं गोला मारिया,

ज फूट्या, था अम्बर मैं ।

गारद सें सिपाही भाजै

रोटी छोड़ गए लंगर मैं ।

अरे उन तिरिऊन का जीवै,

जिनके बालम छे नम्बर में ।


भावार्थ

--'जर्मन ने गोला मारा । आकाश में जाकर वह गोला फट गया । लंगर में रोटी खा रहे सिपाही अपनी-अपनी

रोटी छोड़कर भाग गए । अब क्या पता उन औरतों में से किस-किस के पति जीवित बचे होंगे, जिनके पति छह

नम्बर की पलटन में सिपाही हैं ?'