भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जलकुम्भी / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:40, 7 दिसम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रंजना जायसवाल |अनुवादक= |संग्रह=ज...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न जाने किस सम्मोहन में बँधी
आयी थी तुम यहाँ
किसी ने भी तो
स्वागत नहीं किया तुम्हारा
अश्रय दिया जब गदले जल ने
तुम उसी की होकर रह गयी
हमेशा के लिए
बनाया साफ-सुन्दर-स्वच्छ
डालकर अपना हरा आँचल
कुछ नहीं चाहा अपने लिए
बार-बार काटा गया तुम्हें
धूप ने भी जलाया खूब
फिर भी नष्ट नहीं हुई
तुम्हारी जड़ें
बेहया-सी जिन्दा रही
तुम हर हाल में
जलकुम्भी
क्या इसलिए बुरी हो तुम
कि पनप जाती हो हर बार
काट दिये जाने के बाद भी
कि हर हाल में निभाती हो
सिर्फ एक का साथ
कि बिखेरती रहती हो
विपरीत परिस्थितियों में भी
अपनी भोली, बैंगनी हँसी।