भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जहर / नवीन ठाकुर 'संधि'

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:02, 27 मई 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नवीन ठाकुर 'संधि' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कठोर धूपोॅ में टपकै छै पसीना,
कोमल कली जैन्होॅ कुम्हलावै छै हसीना।

गाछी विरिछोॅ लग भी हवा रोॅ चलै छै लहर,
लागै छै प्रकृति नें हवा में घोरलेॅ छै जहर।
गाँव-मोहल्ला कसवा रहै कि शहर,
सब्भैं चीजों पर ढाहै छै कहर।
होय छै हराम सब्भै रोॅ जीना,
कठोर धूपोॅ में टपकै छै पसीना।

कैंन्हें उत्पात मचैलेॅ छोॅ प्रकृति,
बांकी की बचलै पूरलै सब रोॅ गति?
एत्तेॅ दिन राखल्हेॅ तोंही गोॅद में,
माय-बेटा रोॅ रिश्ता नय तोड़ोॅ प्रतिशोध में।
अबकी ‘‘संधि’’ केॅ लोरी सुनाबोॅ बजाय वीणा,
कठोर धूपोॅ में टपकै छै पसीना।