भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"ज़िन्दगी को मनाओगे कब तक / दरवेश भारती" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दरवेश भारती |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

14:56, 4 दिसम्बर 2019 के समय का अवतरण

ज़िन्दगी को मनाओगे कब तक
और फ़रेब इससे खाओगे कब तक

आह तक भी न लाओगे लब पर
दिन-ब-दिन ग़म उठाओगे कब तक

हो न हो चाहे कोई पुरता' बीर
ख़्वाब कितने सजाओगे कब तक

कोई तो मुतअसिर भी कर पाये
जल्वे क्या, क्या दिखाओगे कब तक

चेह्ररा है दिल का आइना 'दरवेश'
किससे क्या, क्या छुपाओगे कब तक