भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ज़िन्दगी को मनाओगे कब तक / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:56, 4 दिसम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दरवेश भारती |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी को मनाओगे कब तक
और फ़रेब इससे खाओगे कब तक

आह तक भी न लाओगे लब पर
दिन-ब-दिन ग़म उठाओगे कब तक

हो न हो चाहे कोई पुरता' बीर
ख़्वाब कितने सजाओगे कब तक

कोई तो मुतअसिर भी कर पाये
जल्वे क्या, क्या दिखाओगे कब तक

चेह्ररा है दिल का आइना 'दरवेश'
किससे क्या, क्या छुपाओगे कब तक