भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी से-2 / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:30, 30 नवम्बर 2008 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मरीना स्विताएवा |संग्रह=आएंगे दिन कविताओं के / म...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम ज़िन्दा नहीं पकड़ सकोगी मेरी आत्मा,
पंख की तरह वह आ नहीं सकेगी पकड़ में ।
ओ ज़िन्दगी, तू प्राय: ही तुक बनती है झूठी,
सुन, धोखा नहीं खा सकते कान गानेवाले के ।

तुम खोज नहीं हो किसी प्राचीन निवासी की,
जाने दो मुझे दूसरों के तट की ओर ।
ओ ज़िन्दगी, चर्बी से जुड़ती है तुम्हारी तुक
संभालो उसे, ज़िन्दगी ! तुम एक बोझ हो भारी मेरे लिए ।

पाँवों की हड्डियों पर निष्ठुर अंगूठियाँ
हड्डियों तक भी लग रही है जंग ।
थक गई है इन्तज़ार करते-करते
ज़िन्दगी की छुरियों पर नाचती प्रेयसी ।


रचनाकाल : 28 दिसम्बर 1924

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह