भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"ज़िन्दगी / सुखचैन / अनिल जनविजय" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुखचैन |अनुवादक=अनिल जनविजय |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

19:09, 14 अगस्त 2019 के समय का अवतरण

तुम मुझे इस तरह भर देती हो ज़िन्दगी
आसमान को जिस तरह भर देती है रात
खाली आँगनों को जिस तरह भर देती है बच्चों की हंसी
तप रही ख़ुश्क मिट्टी को जिस तरह भर देती है
बरसात की पहली बारिश

पेड़ को जिस तरह भर देती है हरियाली
आदमी को जिस तरह भर देती है औरत
औरत की गोद को जिस तरह भर देता है बच्चा
परेशान अकुलाहट से भरे आदमी को
जिस तरह भर देती है नीन्द
मेले को जिस तरह भर देती है रौनक

अकेलेपन को जिस तरह भर देते हैं दोस्त
ख़ाली जाम को जिस तरह भर देती है शराब
अल्हड़ लड़के को जिस तरह भर देती है लड़की
खाली घर को जिस तरह भर देती है महफ़िल
शून्य को जिस तरह भर देता है ब्रह्माण्ड

मनुष्य के अज्ञान को जिस तरह भर देता शब्द
अन्धेरे को जिस तरह भर देता है चिराग
मनुष्य की तड़प को जिस तरह भर देती है शाइरी
यूँ ही तुम भी मुझे भर देती हो ज़िन्दगी