Last modified on 24 जून 2009, at 03:01

ज़ुबान पर ज़ायका आता था जो सफ़हे पलटने का / गुलज़ार

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:01, 24 जून 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गुलज़ार }} <poem> ज़ुबान पर ज़ाएका आता था जो सफ़हे पल...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

ज़ुबान पर ज़ाएका आता था जो सफ़हे पलटने का
अब उँगली ‘क्लिक’ करने से बस इक
झपकी गुज़रती है
बहुत कुछ तह-ब-तह खुलता चला जाता है परदे पर
किताबों से जो जाती राब्ता था, कट गया है
कभी सीने पे रख के लेट जाते थे