भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़ुल्म की इन्तिहा है / अहमेद फ़ौआद नेग़्म / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:43, 1 दिसम्बर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अहमेद फ़ौआद नेग़्म |अनुवादक=राजे...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़ुल्म की इन्तिहा है :
अड़ी हैं तलवारें जनसामान्य की गर्दन पर,
गुप्त पुलिस कुदक रही है
ख़ाली जगहों पर टिड्डियों की तरह ।

कलाकार और कलावन्त
रण्डीपना कर रहे हैं
सूचनामन्त्री के लिए,
शादियों में,
तलाक़ की कचहरियों
और शव-यात्राओं में ।

हर्षोन्मत्त हैं वे सभी
उनकी हथेलियों पर
चिकनाई लगी ही रहती है
पूरे वर्ष भर ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र