भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाएगा किधर सम्त ए सफ़र भी तो नहीं है / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:53, 15 दिसम्बर 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाएगा किधर सम्त ए सफ़र भी तो नहीं है
ठहरेगा कहाँ अब की शजर भी तो नहीं है

इक नाम भला सा था जिसे भूल चुके हैं
दस्तक कहाँ देनी है ख़बर भी तो नहीं है

जी में तो ये आता है ज़माने को ख़ुदा दें
इस बार मगर पास हुनर भी तो नहीं है

अजदाद के अस्त्रार रक़म कैसे करेंगे
साबित कोई शहरों में खंडहर भी तो नहीं है

जो बोलना जाने है वही बोल न पाए
उस शख़्स का अब शहर में डर भी तो नहीं है