भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जातरा जतना री / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:23, 2 फ़रवरी 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ओम पुरोहित कागद |संग्रह=आंख भर चितराम (मूल) / ओम प…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थळ में
हुवै या जळ में
जातरा जतना री हुवै
माणस भरमीजै
सगती रै परवाणै
पण
काठ री नाव
ठाठ री जातरा
जळ रै पेटै।

मिनखां री जोट
मुरथल में
नीं टोर सकै
चप्पूवंती नाव
झील ई बगै
सणै नाव
उंचायां माणस जोट
पुगावण परलै पार
अदीठ नै
दीठ में उतारती।