भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जान हमरा पर आपन निसार का करी / भगवान सिंह 'भास्कर'

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:26, 1 अक्टूबर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=भगवान सिंह 'भास्कर' |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जान हमरा पर आपन निसार का करी
बश में दोसरा के रहिके करार का करी

हियरा हहरत रही, मनवा डहकत रही,
जेके परदेश पिय ऊ सिंगार का करी

तरसे बदरा नियर ई नयन रात-दिन,
लाख अइबे करी त सुखार का करी

जेकरा दिल में लागल आग बिरहा के बा
ओके पावस के बरखा बहार का करी

पाती पढ़-पढ़के छाती जरे रात-दिन
रोज ढ़रकत नयनवा के धार का करी

जवन सोना रहे सगरो माटी भइल
केतनो गढ़वइब नौलखा हार का करी

हम त मर गइलीं बस तोहरा मुसकान पर
तीर-तलवार-भाला-कटार का करी

नाव मँझधार में फंस गइल ‘भास्कर’
जे सहारा ना देब, त पार का करी