भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"जिंदगी बनकर / संतोष श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=संतोष श्रीवास्तव |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
{{KKCatKavita}}
 
{{KKCatKavita}}
 
<poem>
 
<poem>
हजार दस्तके पहुँची
+
हजार दस्तकें पहुँचीं
 
द्वार पर                       
 
द्वार पर                       
बेशुमार आहटे
+
बेशुमार आहटें
 
सजधज कर पहुँचते रहे
 
सजधज कर पहुँचते रहे
 
  नए नए पैगाम उल्फत के लेकिन मेरा द्वार  
 
  नए नए पैगाम उल्फत के लेकिन मेरा द्वार  
पंक्ति 15: पंक्ति 15:
 
न ही मेरा दिल  
 
न ही मेरा दिल  
 
खुद को बचाए रखा  
 
खुद को बचाए रखा  
मतलब परस्तियो से  
+
मतलबपरस्तियो से  
 
आँगन से खुलते द्वार से  
 
आँगन से खुलते द्वार से  
मै निकल गई दूर  
+
मैं निकल गई दूर  
 
बहुत दूर  
 
बहुत दूर  
 
देखा एक वीरान सी
 
देखा एक वीरान सी
पंक्ति 29: पंक्ति 29:
 
  तुम्हारी खुशबू होकर  
 
  तुम्हारी खुशबू होकर  
 
रच बस गई मै  
 
रच बस गई मै  
हर फूल मे ,हर पत्ती मे
+
हर फूल में, हर पत्ती में
  दरख्तो ने शाखे हिलाई दुआओ की
+
  दरख्तों ने शाखें हिलाईं दुआओं की
  फूलो से भर गई मेरी माँग
+
  फूलों से भर गई मेरी माँग
 
प्रकृति के इस पैगाम ने  
 
प्रकृति के इस पैगाम ने  
 
थोड़ी सी मोहलत  
 
थोड़ी सी मोहलत  

03:22, 25 मार्च 2020 के समय का अवतरण

हजार दस्तकें पहुँचीं
द्वार पर
बेशुमार आहटें
सजधज कर पहुँचते रहे
 नए नए पैगाम उल्फत के लेकिन मेरा द्वार
खुला नही
न ही मेरा दिल
खुद को बचाए रखा
मतलबपरस्तियो से
आँगन से खुलते द्वार से
मैं निकल गई दूर
बहुत दूर
देखा एक वीरान सी
 घाटी मे
तुम बाँसुरी पर
गा रहे थे शून्य को
 मै चुपके से पहुँची
और धुन बन गई
तुम्हारी उँगलियो पर
 नाचती हुई
 तुम्हारी खुशबू होकर
रच बस गई मै
हर फूल में, हर पत्ती में
 दरख्तों ने शाखें हिलाईं दुआओं की
 फूलों से भर गई मेरी माँग
प्रकृति के इस पैगाम ने
थोड़ी सी मोहलत
और दे दी
ज़िन्दगी को