भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"जिस्म क्या है रूह तक सब कुछ ख़ुलासा देखिए / अदम गोंडवी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अदम गोंडवी }} {{KKCatGhazal}} <poem> जिस्म क्या ...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
 
पंक्ति 8: पंक्ति 8:
 
आप भी इस भीड़ में घुस कर तमाशा देखिए
 
आप भी इस भीड़ में घुस कर तमाशा देखिए
  
जो बदल सकती है इस पुलिया के मौसम का मिजाज़
+
जो बदल सकती है इस दुनिया के मौसम का मिजाज़
 
उस युवा पीढ़ी के चेहरे की हताशा देखिए
 
उस युवा पीढ़ी के चेहरे की हताशा देखिए
  
पंक्ति 16: पंक्ति 16:
 
मतस्यगंधा फिर कोई होगी किसी ऋषि का शिकार
 
मतस्यगंधा फिर कोई होगी किसी ऋषि का शिकार
 
दूर तक फैला हुआ गहरा कुहासा देखिए
 
दूर तक फैला हुआ गहरा कुहासा देखिए
 +
</poem>

13:54, 28 नवम्बर 2019 के समय का अवतरण

जिस्म क्या है रूह तक सब कुछ ख़ुलासा देखिए
आप भी इस भीड़ में घुस कर तमाशा देखिए

जो बदल सकती है इस दुनिया के मौसम का मिजाज़
उस युवा पीढ़ी के चेहरे की हताशा देखिए

जल रहा है देश यह बहला रही है क़ौम को
किस तरह अश्लील है कविता की भाषा देखिए

मतस्यगंधा फिर कोई होगी किसी ऋषि का शिकार
दूर तक फैला हुआ गहरा कुहासा देखिए